Monday, 6 April 2009

ओणम




ओणम केरला का सबसे बड़ा त्यौहार है। महाबली नाम से एक असुर रजा था केरला में और इसी के आदर में लोग ओणम मनातें है। यह उपज के कारण भी मनातें है। ओणम मलयाली कैलेंडर में चिंगम में आता है। ओणम दस दिन के लिए मनाया जाता है। साँप का नाव के खेल होतें है, कथकली नाच और गाना भी होता है। महाबली एक बड़ा राजा था लेकिन भगवान् सब उसे राजा बनने से रोक रहे थे और भगवन विष्णु एक छोटा आदमी बनकर महाबली को नरग ले जाना चाहता था। विष्णु ने उसे एक बिनती दी, की वह हर साल एक बार अपने राज्य, केरला, जा सकता था और उसके लोग को मिलने जा सकता था। तोह ओणम उसका लोटान है। पूकलम, फूल का गलीचा हर घर के आगे होता है, सब जन को नए कपड़े मिलते है, और बहुत सारा गरमा गरम काना मिलता है। एक मिठाई पयीसम नाम का सबको मिलता है। हत्थी, आतिशबाजी और बहुत सारा खेल होता है। ओणम हिंदू, मुस्लिम, यह च्रिस्तियन लोग सब मना सकते है।

1 comment:

शिवराज गूजर. said...

onam ke baare main iatani badiya jankari dene ke liye badhai.